भारत में दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत

आज के दिन का बेसब्री से इंतेजार

  • भारत में दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह 10.30 राष्ट्र के नाम संबोधन करते हुए इस अभियान की शुरुआत की। पहले चरण में 3 करोड़ लोगों को टीका लगेगा।
  • पहले दिन 3 लाख लोगों को टीके लगाने का लक्ष्य है। पहले चर में जिन लोगों को टीके लगाए जा रहे हैं, उनमें अधिकांश स्वास्थ्य कर्मी और फ्रंट लाइन वर्कर्स शामिल हैं। इनके अलावा 50 साल से अधिक उम्र के जरूरतमंद मरीजों को टीके लगाए जाएं।
  • आम जनता के लिए टीकाकरण की शुरुआत अगले चरण में होगी। टीकाकरण अभियान की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने कहा, आज के दिन का पूरे देश को बेसब्री से इंतेजार रहा है। कितने महीनों से देश के हर घर में बच्चे, बूढ़े, जवान सभी की जुबान पर ये सवाल था कि कोरोना वैक्सीन कब आएगी।
  • अब वैक्सीन आ गयी है, बहुत कम समय में आ गई है। अब से कुछ ही मिनट बाद भारत में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू होने जा रहा है। मैं सभी देशवासियों को इसके लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

पीएम ने कहा, आज वो वैज्ञानिक, वैक्सीन रिसर्च से जुड़े अनेकों लोग विशेष प्रशंसा के हकदार हैं, जो बीते कई महीनों से कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने में जुटे थे। आमतौर पर एक वैक्सीन बनाने में बरसों लग जाते हैं, लेकिन इतने कम समय में एक नहीं, दो मेड इन इंडिया वैक्सीन तैयार हुई हैं: PMमैं ये बात फिर याद दिलाना चाहता हूं कि कोरोना वैक्सीन की 2 डोज लगनी बहुत जरूरी है।

पहली और दूसरी डोज के बीच, लगभग एक महीने का अंतराल भी रखा जाएगा। दूसरी डोज़ लगने के 2 हफ्ते बाद ही आपके शरीर में कोरोना के विरुद्ध ज़रूरी शक्ति विकसित हो पाएगी।

पीएम मोदी के संबोधन की बड़ी बातें

  • इतिहास में इस प्रकार का और इतने बड़े स्तर का टीकाकरण अभियान पहले कभी नहीं चलाया गया है।
  • दुनिया के 100 से भी ज्यादा ऐसे देश हैं जिनकी जनसंख्या 3 करोड़ से कम है। और भारत वैक्सीनेशन के अपने पहले चरण में ही 3 करोड़ लोगों का टीकाकरण कर रहा है: PMदूसरे चरण में हमें इसको 30 करोड़ की संख्या तक ले जाना है।
  • जो बुजुर्ग हैं, जो गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं, उन्हें इस चरण में टीका लगेगा। आप कल्पना कर सकते हैं, 30 करोड़ की आबादी से ऊपर के दुनिया के सिर्फ तीन ही देश हैं- खुद भारत, चीन और अमेरिका।
  • अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देश जब कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलो से जूझ रहे हैं, तब भारत में न केवल नए मरीजों की संख्या में रिकॉर्ड कमी आई है, बल्कि अब टीकाकरण भी शुरू हो गया है। यह दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान है।

कोवैक्सीन की 1.65 करोड़ खुराकें राज्यों को आवंटित

  • भारत 19वां देश है जहां कोरोना के टीकाकरण की शुरुआत होने जा रही है, लेकिन इससे भी बड़ी बात यह है कि भारत दुनिया का मात्र चौथा देश है जहां स्वदेशी वैक्सीन लगाई जा रही है।
  • बता दें, भारत में पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड और हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को मंजूरी मिली है। दोनों टीके पूरी तरह सुरक्षित और प्रभावी हैं।
  • 24 घंटे काम करने वाली 1075 नंबर की हेल्पलाइन स्थापित की गई है। कोविशील्ड व कोवैक्सीन की 1.65 करोड़ खुराकें राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को आवंटित कर दी गई हैं। सरकार ने ट्रांसपोर्टेशन की विशेष व्यवस्था की है