उमंग ऐप एवं डिजिलॉकर की मदद से सभी तरह की सेवाएं उपलब्ध करना होगा मुमकिन: अजय प्रकाश साहनी

डिजिलॉकर में मिलेगी स्वास्थ्य रिकॉर्ड रखने की सुविधा

  • सरकारी सेवाएं मुहैया कराने वाली इकाई सीएससी एसपीवी (कॉमन सर्विस सेंटर-विशेष उद्देश्यीय इकाई) को अपने फ्रेंचाइजी की मदद से देश भर में स्वास्थ्य एवं शिक्षा से जुड़ी सेवाएं ऑनलाइन उपलब्ध करानी चाहिए। 
  • इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिक मंत्रालय के सचिव अजय प्रकाश साहनी ने गुरुवार को एक कार्यक्रम में यह कहा। उन्होंने कहा कि सरकार नागरिकों को सभी सेवाएं ऑनलाइन उपलब्ध कराना चाहती है और इसमें उमंग ऐप एवं डिजिलॉकर जैसे मंच काफी उपयोगी हो सकते हैं।    
  • साहनी ने कहा, ‘आने वाले दिनों में मुझे लगता है कि उमंग ऐप एवं डिजिलॉकर की मदद से सभी तरह की सेवाएं उपलब्ध करा पाना मुमकिन होगा। आपको डिजिलॉकर में स्वास्थ्य रिकॉर्ड रखने की सुविधा भी मिलने लगेगी।’

लोक सेवा केंद्रों पर सेवाओं के लिए भुगतान करने में सीएससी-पे का इस्तेमाल

  • साहनी ने कहा कि सीएससी को भारत में नए डिजिटल मंचों पर आ रही सभी सेवाएं मुहैया कराने के मामले में आगे होना चाहिए। कॉमन सर्विस सेंटर ने कई नई सेवाएं देनी शुरू की हैं, जिनमें सीएससी-पे और व्हाट्सऐप पर स्वास्थ्य सेवा संबंधी चैटबोट भी शामिल है। लोग सेवा केंद्रों पर सेवाओं के लिए भुगतान करने में सीएससी-पे का इस्तेमाल कर सकते हैं। 
  • सीएससी-पे यूपीआई पर आधारित ऐप्लिकेशन है, जिसका विकास सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड ने किया है। सीएससी एसपीवी के प्रबंध निदेशक दिनेश त्यागी ने कहा कि सीएससी-पे के आने से गांवों के करीब चार लाख छोटे उद्यमी भी यूपीआई ढांचे के भीतर कारोबारी के तौर पर काम कर सकेंगे।