Winter Games: जम्मू कश्मीर को शीत खेलों का गढ बनाने की दिशा में यह अहम कदम

इंडिया शीतकालीन खेलों का उद्घाटन

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को गुलमर्ग में दूसरे खेलो इंडिया शीतकालीन खेलों का उद्घाटन करते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर को शीत खेलों का गढ बनाने की दिशा में यह अहम कदम है ।
  • दो मार्च को खत्म हो रहे इन खेलों में 27 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के खिलाड़ी भाग ले रहे हैं ।
  • मोदी ने वर्चुअल संबोधन में कहा ,” यह अंतरराष्ट्रीय शीतकालीन खेलों में भारत की उपस्थिति दर्ज कराने और जम्मू कश्मीर को शीत खेलों का गढ बनाने की दिशा में एक कदम है ।”

उन्होंने कहा ,” ये खेल ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ के संकल्प को मजबूत करेंगे । मुझे बताया गया है कि इस बार प्रतियोगियों की संख्या दुगुनी हो गई है । यह शीतकालीन खेलों के प्रति लोगों के बढते रूझान का संकेत है ।”

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति

पीएम मोदी ने कहा स्पोर्ट सिर्फ एक हॉबी या टाइमपास नहीं है। स्पोर्ट से हम टीम स्पिरिट सीखते हैं, हार में नई राह खोजते हैं, जीत को दोहराना सीखते हैं, संकल्पित होते हैं। आज खेल एक ऐसा क्षेत्र बन गया है जो पूरी दुनिया में देश की छवि का भी, देश की शक्ति का भी परिचय कराता है। दुनिया के कई छोटे-छोटे देश खेल के कारण अपनी पहचान बनाते हैं।

  • पीएम ने कहा नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति है, उसमें भी स्पोर्ट्स को बहुत ज्यादा महत्व दिया गया है। पहले स्पोर्ट्स को सिर्फ एक्स्ट्रा करिकुलर एक्ट माना जाता था, अब स्पोर्ट्स करिकुलम का हिस्सा होगा। अब खेल की ग्रेडिंग भी बच्चों की शिक्षा में काउंट होगी।
  • प्रधानमंत्री ने कहा , “जब आप खेलो इंडिया- Winter Games में अपनी प्रतिभा दिखाएं, तो ये भी याद रखिएगा कि आप सिर्फ एक खेल का ही हिस्सा नहीं हैं, बल्कि आप आत्मनिर्भर भारत के ब्रांड एंबेसेडर भी हैं।
  • आप जो मैदान में कमाल करते हैं, उससे दुनिया भारत का मूल्यांकन करती है।”इन खेलों में अल्पाइन स्कीइंग, नोर्डिक स्की, स्नोबोर्डिंग, स्की पर्वतारोहण, आइस हॉकी और आइस स्केटिंग शामिल है ।