उत्तराखंड के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी का दौर जारी

उत्तराखंड के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी देखने पहुंचे लोगों

उत्तराखंड के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में रुक-रुक कर बर्फबारी का दौर जारी रहा। चमोली जिले के औली, टिहरी के धनोल्टी और देहरादून जिले में चकराता की चोटियों ने बर्फ की सफेद चादर ओढ़ ली।

बारिश से तापमान में गिरावट दर्ज

औली में बर्फबारी देखने पहुंचे लोगों की भीड़ के कारण जोशीमठ-औली रोपवे शनिवार सुबह 9 बजे से शाम पांच बजे तक फुल रहा। रुद्रप्रयाग जिले में केदारनाथ, मद्महेश्वर, तुंगनाथ, चोपता आदि स्थानों में बर्फबारी का दौर जारी रहा। चकराता में शनिवार सुबह लोखंडी, मोयला टॉप, देवबन, खडम्बा, मुंडाली, व्यास शिखर चोटियां बर्फ ये ढकी नजर आई। धनोल्टी, सुरकंडा, बुरांशखंडा में भी हल्का हिमपात हुआ। गैरसैंण में दिवालीखाल, भराड़ीसैंण और दूधातोली की चोटियां भी बर्फ से लकदक हो गईं। उधर, कुमाऊं मंडल में कपकोट और मुनस्यारी की ऊंची पहाड़ियों पर शनिवार को सीजन का चौथा हिमपात हुआ। मुनस्यारी के खलिया टॉप में 3 इंच तो मिलम में एक फीट तक बर्फ गिरी है।

जबकि, बागेश्वर जिले के कपकोट, मुनस्यारी के खलिया टॉप समेत कई स्थानों पर बर्फबारी हुई। देहरादून समेत गढ़वाल मंडल के निचले इलाकों में बारिश से तापमान में गिरावट दर्ज की गई।  

हरिद्वार में शुक्रवार की देर रात से शनिवार सुबह तक हुई तेज बारिश और शहर की बिजली गुल हो गई। बिजली आपूर्ति के साथ ही पेयजल सप्लाई भी ठप रहने से लोग परेशान रहे। रुड़की में आईआईटी की कृषि मौसम वेधशाला में 16 एमएम बारिश रिकार्ड की गई। दिसंबर में पहली बारिश से क्षेत्र में सदी बढ़ गई।