भारतीय मूल की भव्या लाल को नासा ने एक अहम जिम्मेदारी सौंपी

भारतीय मूल के लोगों को मौका

  • संयुक्त राष्ट्र संघ (USA) में नई सरकार आने के बाद भारतीय मूल के लोगों को बड़े मौके मिल रहे हैं।
  • अमेरिका की वाइस प्रसिडेंट कमला हैरिस (भारतीय मूल) के बाद अब नासा ने भी भारतीय मूल की भव्या लाल को एक अहम जिम्मेदारी सौंपी है। गौरतलब है कि भव्या अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के साथ पहले भी काम कर चुकी हैं।
  • भव्या को नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (NASA) द्वारा अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी का कार्यकारी प्रमुख चुना गया है।
  • NASA ने एक बयान में कहा कि Bhvya के पास अभियांत्रिकी और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का विस्तृत अनुभव है।

भव्या का कॅरियर :

  • भव्या ने इंस्टिट्यूट फॉर डिफेंस एनालसिस साइंस एंड टेक्नॉलजी पालिसी इंस्टिट्यूट में 2005 से 2020 तक रिसर्च स्टाफ के रूप में काम किया है।
  • वे स्पेस तकनीक और पॉलिसी कम्युनिटी की एक्टिव सदस्य भी हैं। उन्होंने नेशनल एकेडमी आफ साइंस के पैनलों की अध्यक्ष और सह अध्यक्ष रही हैं।
  • भव्या इससे पहले विज्ञान और तकनीकी रिसर्च और कंसल्टेंसी फर्म C-STPS LLC की अध्यक्ष भी रह चुकी हैं।
  • NASA ने कहा कि “वरिष्ठ पदों के लिए नियुक्तियों का नाम दिया गया है। भाव्य लाल एजेंसी में कार्यवाहक प्रमुख के रूप में जुड़ी हैं।

नासा में बदलाव संबंधी समीक्षा दल की सदस्य

NASA ने बयान जारी करते हुए कहा कि ‘भव्या ने ह्वाइट हाउस ऑफिस ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी पालिसी और नेशनल स्पेस काउंसिल के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, रणनीति और नीति के विश्लेषण का नेतृत्व किया है। साथ ही नासा, रक्षा विभाग और खुफिया सहित संघीय अंतरिक्ष उन्मुख संगठन के लिए भी काम किया है।’

  • ये अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी एवं नीति समुदाय की सक्रिय सदस्य भी हैं।
  •  ध्यान देने वाली बात है कि भव्या अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन द्वारा नासा में बदलाव संबंधी समीक्षा दल की सदस्य भी हैं।
  • ये बाइडेन प्रशासन के तहत एजेंसी में परिवर्तन संबंधी कार्यों को भी देख रही हैं।