नासा ने अपने इस्टाग्राम पर चांद की एक तस्वीर शेयर की

नासा ने फोटो शेयर करते हुए कहा कि यह 2020 का 13वां और अंतिम पूर्ण चंद्रमा है. इसके साथ ही नासा ने यह भी बताया कि इसे आखिर वुल्फ मून क्यों कहा जा रहा है?

वॉशिंगटन: अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने अपने इस्टाग्राम पर चांद की एक तस्वीर शेयर की है और इसे वुल्फ मून बताया है.

तीन दिनों तक दिखेगा फुल मून

नासा ने अपने इंस्टाग्राम पर फोटो शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा, ‘Aaah-ooooooh! यह साल का आखिरी वुल्फ मून (Wolf Moon) है. आज रात से पृथ्वी से आकाश में पूर्ण चांद दिखाई देगा. यह साल 2020 का 13वां और अंतिम पूर्ण चांद होगा. यह लगभग तीन दिनों तक दिखाई देगा.’

क्यों कहा जाता है वुल्फ मून?

  • पोस्ट में नासा ने यह भी बताया कि आखिर इसे वुल्फ मून क्यों कहा जाता है? नासा ने लिखा, ‘विभिन्न संस्कृतियों में पूरे साल के हर पूर्ण चांद के लिए विशिष्ट नाम हैं और वे अक्सर उस समय से संबंधित हैं, जो प्रकृति में हो रहा होता है.
  • वुल्फ मून का नाम उत्तरी और पूर्वी अमेरिकी जनजातियों ने दिया है, क्योंकि सर्दियों के दौरान खाना ढूंढ़ते भेड़िए चिल्लाते गांवों में घूमते रहते हैं.’
  • सा ने कहा, इसका एक और नाम आइस मून है. दिसंबर में आने वाले पूर्ण चांद को शीत चंद्रमा (Cold Moon) भी कहा जाता है.’
  • बता दें कि इसे उत्तरी अमेरिका में ‘लॉन्ग नाइट्स मून’ भी कहा जाता है. यह क्रिसमस के बाद होता है, इसलिए यूरोप में ‘मून आफ्टर यूल’ कहा जाता है.