‘नरेंद्र मोदी स्टेडियम’ दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम भारत को मिल गया है

नरेंद्र मोदी स्टेडियम

  • क्रिकेट का खेल भारत में बड़े ही जोश के साथ खेला जाता है। अब भारत को दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम मिल गया है।
  • जिसका उद्घाटन अहमदाबाद में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया है।
  • कार्यक्रम में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जन सभा को संबोधित करते हुए ऐलान किया कि इस स्टेडियम का नाम ‘नरेंद्र मोदी स्टेडियम’ होगा।
  • बता दें कि इसी स्टेडियम पर बुधवार को भारत और इंग्लैंड के बीच पिंक बॉल टेस्ट खेला जाना है।

अहमदाबाद स्पोर्ट्स सिटी

  • गृह मंत्री अमित शाह ने बताया कि हमने यहां इस तरह की सुविधा कर दी है कि 6 महीने में ओलंपिक, एशियाड और कॉमनवेल्थ जैसे खेलों का आयोजन किया जा सकता है। 
  • अहमदाबाद को अब स्पोर्ट्स सिटी के नाम से जाना जाएगा।
  • अमित शाह ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने बतौर गुजरात सीएम इसका सपना देखा था, जो अब पूरा हुआ।
  • नए स्टेडियम को दुनिया के सबसे बड़े और सबसे हाइटेक स्टेडियम के तौर पर विकसित किया गया है।

600 स्कूल को इस स्टेडियम के साथ जोड़ा जाएगा

  • अमित शाह ने ऐलान किया कि करीब 600 स्कूल को इस स्टेडियम के साथ जोड़ा जाएगा, सभी स्कूलों के बच्चों को यहां पर लाया जाएगा और खेलने का मौका दिया जाएगा।
  • अमित शाह बोले कि कांग्रेस ने अपने कार्यकाल में सरदार पटेल को भुलाने का काम किया, लेकिन नरेंद्र मोदी ने ऐसा काम किया जिससे सदियों तक सरदार पटेल का नाम नहीं मिटा सकते हैं। गृह मंत्री बोले कि जो लोग अपने परिवारों में सिमटे हैं, ये उन सभी लोगों को जवाब है।
  • आपको बता दें कि भारत और इंग्लैड के बीच मौजूदा टेस्ट सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में आज (बुधवार) से खेला जाएगा।
  • इस डे-नाइट मैच की मेजबानी करने के लिए दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम तैयार है। यहां दोपहर 2.30 बजे मैच शुरू होगा।

नरेंद्र मोदी का सपना

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इस स्टेडियम के उद्घाटन पर कहा कि नरेंद्र मोदी ने बतौर मुख्यमंत्री इस स्टेडियम का सपना देखा था, जो अब पूरा हो गया है।

राष्ट्रपति ने कहा कि क्रिकेट के साथ हमें अन्य खेलों पर भी ध्यान देना होगा, ताकि वो दुनिया में देश का नाम रोशन कर सकें। यह स्टेडियम आने वाले समय में ‘सरदार वल्लभभाई पटेल स्पोर्ट्स एनक्लेव’, अहमदाबाद शहर को स्पोर्ट्स इन्फ्रॉस्ट्रक्टर की दृष्टि से पूरे विश्व में एक नई पहचान दिलाएगा।