भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने रचा इतिहास

टोक्यो ओलंपिक 2020

  • टोक्यो ओलंपिक की महिला सिंगल्स स्पर्धा में कांस्य पदक जीत भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने कल इतिहास रच दिया था.
  • मैच जीतने के बाद के अपने अनुभव के बारे में बात करते हुए आज सिंधु ने कहा कि इस मैच में आखिरी पॉईंट जीतने के बाद थोड़ी देर के लिए उन्हें कुछ समझ नहीं आया. उन्होंने कहा कि मैंने क्या उपलब्धि हासिल की है इस बात को समझने में मुझे पांच-छह सेकंड का समय लगा.
  • बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (BAI) द्वारा आयोजित एक वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में सिंधु ने कहा, “मैं बहुत खुश हूं. देश के लिए पदक जीत कर लाना मेरे लिए गर्व की बात है. रियो में मैंने सिल्वर मेडल जीता था और अब टोक्यो में कांस्य पदक जीता है. लगातार दो ओलंपिक में पदक जीतकर मैं बहुत खुश हूं.”

पेरिस ओलंपिक

  • साथ ही सिंधु ने पेरिस में होने वाले अगले ओलंपिक को लेकर कहा, “अभी पेरिस ओलंपिक में बहुत समय है. अभी मैं बस इस पल को एंजॉय करना चाहतीं हूं. मैं अपने परिवार और फैंस को ये मेडल डेडिकेट करतीं हूं. मैं उन सभी को मिस कर रहीं हूं. मुझे मालूम हैं की ये सभी लगातार मेरी सफलता के लिए दुआ कर रहे थे.”
  • साथ ही सिंधु ने BAI का भी धन्यवाद किया. उन्होंने कहा, “BAI ने भी मेरी काफी मदद की है. मुझे जब भी किसी भी चीज की जरुरत होती उन्होंने मुझे वो उपलब्ध कराई है है. मैं इसके लिए उनका शुक्रिया करना चाहतीं हूं. एसोसिएशन ने मेरी हर जरूरत का ख्याल रखा है. मेरी जीत में उनका भी बड़ा योगदान हैं और मैं इस मेडल को उन्हें भी समर्पित करना चाहूंगीं.”

महिला सिंगल्स स्पर्धा में कांस्य पदक की जीत

  • सिंधु ने कहा, “शुरू में सेमीफाइनल की हार के चलते मैं थोड़ा उदास थी. मेरे कोच और फिजियो ने मुझे बताया कि अभी सबकुछ खत्म नहीं हुआ है. कांस्य पदक वाले मैच की सुबह जब मैं उठी तो मैंने खुद से कहा कि मुझे इस मैच में अपना बेस्ट देना है. ओलंपिक में देश के लिए पदक लाना सबसे ज्यादा अहम है.”
  • कांस्य पदक के मैच से पहले अपने कोच के साथ हुई बातचीत को लेकर सिंधु ने बताया, “सेमीफाइनल में हार के बाद मैं निराश महसूस कर रहीं थीं. हम सभी उस समय उदास थे, ये वो समय था जब हमें खुद को मजबूत रखने की जरुरत थी. ऐसे समय में मेरे कोच पार्क और फिजियो ने मुझे प्रोत्साहित किया और मेरा पूरा सपोर्ट किया.
  • उन्होंने मुझसे कहा कि अभी एक और मैच बाक़ी है और इसलिए मुझे उदास होने की जरुरत नहीं है. कोच पार्क ने कहा कि मुझे जी जान से इस मैच की तैयारी करनी चाहिए. कांस्य पदक जीतने और चौथे स्थान पर आने में बहुत अंतर है.”
  • ओलंपिक के लिए रवाना होने से पहले सिंधु ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बातचीत में कहा था कि वो ओलंपिक से लौटने के बाद आइसक्रीम खाना पसंद करेंगी. सिंधु से जब पूछा गया कि वो कौन सी आइसक्रीम खाना पसंद करेंगी तो उन्होंने कहा, “मैंने अभी तय नहीं किया है कि मैं कौनसी फ़्लेवर की आइसक्रीम खाऊंगीं, हां लेकिन ये पक्का हैं कि मैं लौटते ही आइसक्रीम जरूर खाऊंगी.”