रोस बैट्स के बयान को लेकर भारतीय बोर्ड दुखी

BCCI चार टेस्ट की बजाय ऑस्ट्रेलिया में तीन मैच ही खेलने का मन

15 जनवरी से क्वींसलैंड राज्य के ब्रिस्बेन में चौथा और अंतिम टेस्ट मैच खेला जाना है, इससे पहले मीडिया में यह खबरें आनी शुरू हो चुकी थी कि भारतीय टीम कड़े पृथकवास के नियमों के कारण ब्रिस्बेन की बजाय सिडनी में ही चौथा मैच खेलना चाहता है, जिसके बाद स्वास्थ्य मंत्री रोस बैट्स ने सख्त लहजे में कहा था कि अगर भारतीय टीम नियमों के साथ नहीं खेलना चाहती तो यहां न आए।

क्वींसलैंड की स्वास्थ्य मंत्री द्वारा टीम इंडिया के लिए दिया गया बयान बीसीसीआई को हरगिज स्वीकार्य नहीं है। बोर्ड ऑफ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया यानी BCCI की मानना है कि क्वारंटीन संबंधी उस टिप्पणी से टीम की छवि धूमिल करने की कोशिश की गई। अब भारतीय बोर्ड चार टेस्ट की बजाय ऑस्ट्रेलिया में तीन मैच ही खेलने का मन बना रहा है।

रोस बैट्स द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए इस वीडियो पर ही बीसीसीआई को कड़ी आपत्ति है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बीसीसीआई एक जनप्रतिनिधि के बयान को लेकर कतई सहज नहीं। भारतीय बोर्ड बीसीसीआई से बिना किसी विवाद के पूर्वनियोजित कार्यक्रम के तहत श्रृंखला खत्म करना चाहता है।

बीसीसीआई अधिकारी का कहना है कि, ‘भारतीय टीम मैनेजमेंट ने कभी भी ऑस्ट्रेलिया में कोई भी कोरोना नियम मानने से इनकार नहीं किया। रोहित शर्मा का 14 दिन क्वारंटीन में रहना इसका उदाहरण है। जिस लहजे में मंत्री रोस बैट्स ने बयान दिया उससे भी भारतीय बोर्ड दुखी है। हम ऑस्ट्रेलियाई फैंस का दिल नहीं दुखाना चाहते, लेकिन चार की जगह तीन टेस्ट ही खेलना अब हमारे विकल्प में है।’