भारत और इजराइल ने मिसाइल का परीक्षण किया

उन्नत मिसाइल रक्षा प्रणाली

  • भारत और इजराइल ने अपनी सैन्य सुरक्षा को बढ़ाने के लिए सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल का परीक्षण किया है।
  • इस विमान का मकसद शत्रु विमान से सुरक्षा प्राप्त करना है। आपको बता दें कि इस मिसाइल का परीक्षण पिछले सप्ताह एक भारतीय परीक्षा केंद्र में हुआ है।
  • एमआरएसएएम सतह से हवा में मार करने के लिए उन्नत मिसाइल रक्षा प्रणाली है। दोनों देशों ने अपनी युद्ध क्षमताओं को बढ़ाने के लिए इस प्रणाली को विकसित किया गया है।

यह मिसाइल 50 से 70 किलोमीटर की दूरी से वार

  • भारत और इजराइल ने इस मिसाइल का परीक्षण किया है। आपको बता दें कि इजराइल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज (आईएआई ) ने कहा है कि यह परीक्षण पिछले सप्ताह एक भारतीय केंद्र में किया गया है। 
  • यह एमआरएसएएम मिसाइल सतह से हवा में मार करने को बनाई गई है। यह रक्षा प्रणाली एरियल प्लेटफॉर्म से सम्पूर्ण सुरक्षा प्रदान करती है।
  • रक्षा विशेषज्ञों के मुताबिक यह मिसाइल शत्रु को 50 से 70 किलोमीटर की दूरी से मार गिरा सकती है।

एमआरएसएएम का इस्तेमाल यह सेना करेगी

  • आपको बता दें कि इस प्रणाली में उन्नत रडार, कमांड एवं नियंत्रक , मोबाइल लॉन्चर और अत्याधुनिक आरएफ अन्वेषक के साथ इंटरसेप्टर है।
  • इस मिसाइल में शत्रु से लड़ने की अच्छी क्षमता रहती है। इस मिसाइल को भारत और इजराइल ने मिलकर विकसित किया है।
  • एमआरएसएएम का इस्तेमाल भारतीय सेना की तीनों शाखाओं और इजराइल रक्षा बल की सेना करेगी।

दोनों देशों की बढ़ेगी युद्ध क्षमता

  • भारत और इजराइल ने मिलकर इस सैन्य सुरक्षा प्रणाली का परीक्षण किया है। इससे युद्ध में काफी आसानी मिलेगी।
  • आपको बता दें कि एमआरएसएएम का इस्तेमाल दोनों देश अपने शत्रुओं को हराने के लिए कर सकते हैं।
  • यह मिसाइल को हवा में वार कर सकते हैं। इस मिसाइल का सफल परीक्षण कर लिया गया है। इससे दोनों देशों की युद्ध क्षमता काफी बढ़ेगी।