गुरु ग्रह से जुड़े दोषों के निवारण के लिए उपाय

बृहस्पतिवार व्रत का महत्व और नियम

एकादशी का उपवास रखें. साथ ही गुरुवार को व्रत करें. पीले वस्त्र पहनें. ॐ बृं बृहस्पते नम: का जाप कम से कम 108 बार जरूर करें. यह गुरु मंत्र है. इसके अलावा गुरुवार के दिन सूर्योदय से पहले उठ जाएं और फिर विष्णु के सामने घी का दीपक जलाएं. विष्णु सहस्रनाम का पाठ करना चाहिए. गुरुवार के दिन शाम के समय केले के पेड़ के नीचे दीपक जलाएं. साथ ही लड्डू या बेसन की मिठाई चढ़ाएं. इस दिन नमक का सेवन न करें. पीले रंग का पकवान जैसे बेसन के लड्डू, आम आदि जरुर खाएं.

  • ऋग्वेद के मुताबिक, किसी भी मनुष्य को फिर चाहे वह कितना ही गुणी या सफल क्यों न हो, उसे अपना गुणगान खुद नहीं करना चाहिए. यानी अपनी तारीफ करना वास्तु के मुताबिक ठीक नहीं माना जाता.
  • दरअसल, वास्तविक प्रशंसा वहीं होती है, जो कि किसी की गैरमौजूदगी में की जाती है. ऐसा माना जाता है कि जिस व्यक्ति का घर-परिवार, समाज आदि में कोई मान-सम्मान नहीं होता उसे जीते-जी मरे हुए के समान समझना चाहिए. इसके विपरीत कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हें उनके बुरे कामों के कारण जीवन में कभी न कभी अपयश यानी अपमान का सामना करना पड़ता है.
  • इसके साथ ही गरुड़ पुराण में भी कुछ ऐसे कामों के बारे में बताया भी गया है, जिसके कारण व्यक्ति को अपमानित होना पड़ता है. गुरु ग्रह सौभाग्य, शुभ कार्य और समृद्धि तथा सम्मान बना देता है. नवग्रहों में यह ग्रह सबसे अच्छा माना जाता है और इसपर खासा ध्यान रखा जाता है. ज्योतिष के बनाये हुए शास्त्रों में गुरु ग्रह से जुड़े दोषों के निवारण के लिए बहुत से उपाय लिखे गए हैं. इनमें से सबसे कारगर और अच्छा तरीका ये है कि आप नहाते वक्त निम्नलिखित सामान को नहाने के पानी में जरूर डाल लें.
  • इसके लिए आप गुड़, सोने की बनी हुई कोई वस्तु, चीनी, शहद, हल्दी, मुलेठी, नमक, पीले फूल और सरसों के दाने, बाजरा खरीद लें, एक किलो या आधा किलो, फिर उसे घर लाकर कहीं सूखे स्थान पर रख लें. इसके अलावा आप रोजाना सुबह कबूतरों को बाजरा खिलाएं अन्य पक्षियों को भी दाना खिलाना अच्छा माना जाता है.
  • ऐसा करने से भी आपके मान-सम्मान में बढ़ोतरी होती है. यही नहीं अगर आप रोजाना तांबे के बर्तन से पानी पिते है तब भी आपको समाज में सम्मान मिलेगा. साथ ही दाहिने हाथ की तर्जनी अंगुली में सोने या पीतल का छल्ला पहनना भी शुभ माना जाता है. रोज सुबह और शाम को बृहस्पति के मन्त्र का जाप करने से भी आपके सम्मान में बढ़ोतरी होगी. ये है बृहस्पति मन्त्र- मंत्र होगा- ॐ बृं बृहस्पतये नमः