‘मैं लोगों से अपील करता हूं कि अफवाहों पर ध्यान न दें’- Harsh Vardhan

परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन कि अपील

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन शनिवार को कोरोना टीकाकरण के ड्राई रन का जायजा लेने दिल्ली स्थित गुरू तेग बहादुर हॉस्पिटल पहुंचे. इस दौरान सिंह ने कहा, ‘4 राज्यों में चलाए गए ड्राई रन के बाद जो फीडबैक मिला है, उसे वैक्सीनेशन की नई गाइडलाइंस में शामिल किया गया था और सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में आज के ड्राई रन को नई गाइडलाइंस के अनुसार चलाया जा रहा है.

  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें. वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभावकारिता सुनिश्चित करना हमारी प्राथमिकता है.
  • पोलियो के वैक्सीनेशन के दौरान कई प्रकार की अफवाहें फैली थीं, हालांकि लोगों ने टीका लगवा लिया और भारत अब पोलियो मुक्त हो गया है’.
  • असली वैक्सीन देने के अलावा, ड्रिल के दौरान हर प्रक्रिया का पालन किया जा रहा है’.

77 वैक्सीनेशन सेंटर्स की पहचान

  • दिल्ली में एक हेल्थकेयर सेंटर में सेंट्रल दिल्ली के डीएम ने कहा, ‘सेंट्रल दिल्ली में 77 वैक्सीनेशन सेंटर्स की पहचान की गई है.
  • हम भारत सरकार द्वारा निर्धारित सभी दिशानिर्देशों का पालन कर रहे हैं. हम वैक्सीन को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के दौरान बरती जाने वाली सुरक्षा को भी देख रहे हैं’.
  • दिल्ली में शनिवार को तीन जिलों में ट्रायल रन किया जा रहा है, जिसके लिए इन तीन जिलों में तीन सेंटरों का चयन किया गया है- गुरु तेग बहादुर अस्पताल (शहादरा), अर्बन प्राइमरी हेल्थ केयर (दरियागंज) और वेंकटेश्वर अस्पताल (द्वारका).
  • इसके लिए डॉ. हर्षवर्धन ने संबंधित अधिकारियों से बात की, जिनमें स्वास्थ्य सचिव अमित सिंगला के साथ शहादरा, केंद्रीय दिल्ली और दक्षिणी-पश्चिमी दिल्ली के जिला मजिस्ट्रेट और अन्य अधिकारी शामिल हैं.

‘पल्स पोलियो प्रोग्राम’

  • डॉ. हर्षवर्धन ने जिले के अधिकारियों को तय समय में काम पूरा करने का निर्देश दिया है. उन्होंने सभा स्थलों, कोल्ड चेन प्वाइंट्स और वैक्सीन के परिवहन (Transportatio) के दौरान पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था की जरूरत पर भी जोर दिया.
  • बता दें कि डॉ. हर्षवर्धन की ही देखरेख में दिल्ली में साल 1994 का पल्स पोलियो प्रोग्राम चलाया गया था, जिसमें करीब 10 लाख बच्चों को लाभ मिला था.
  • उसी की सफलता को देखते हुए उन्होंने कहा कि टीकाकरण अभियान के लिए भी इससे जुड़े सभी हितधारकों, NGO, नागरिक समाज संगठन (CSO) और अन्य को एक साथ आने की जरूरत है.