आज 11 बजे पेश वित्तीय वर्ष 2021-22 का आम बजट

अर्थव्यवस्था पर दबाव

  • कोरोना महामारी के कारण इस बार देश की आर्थिक स्थिति बिल्कुल अलग है।
  • कहा जा रहा है कि आजादी के बाद यह पहला मौका है जब अर्थव्यवस्था पर इतना अधिक दबाव है। लगभग हर सेक्टर को इस बजट से बड़ी उम्मीद है।
  • किसानों और कृषि सेक्टर की अपनी मांग है तो नौकरीपेश भी PF, EPF, टैक्स और वर्क फ्रॉम होम से जुड़ी बातें में राहत चाहता है।
  • वहीं हर इंडस्ट्री की सेहत पर कोरोना ने हमला किया है और इस बार फायनेंशियल वैक्सीन की दरकार है।

निर्मला सीतारमण तीसरी बार एनडीए सरकार का बजट पेश करेंगी

 वित्तीय वर्ष 2021-22 का आम बजट (यूनियन बजट) आज 11 बजे पेश होगा। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण तीसरी बार एनडीए सरकार का बजट पेश करेंगी।

  • हालांकि वित्त मंत्री के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी संकेत दे चुके हैं कि यह आम जनता के बजट हो सकता है। 
  • पीएम मोदी ने बजट सत्र की शुरुआत में कहा था कि 2020 में कोरोना महामारी के कारण कई मिनी बजट पेश हुए और इस बजट को भी उसी श्रेणी में गिना जाना चाहिए।
  • बजट 2021 से पहले वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने अपने घर में मौजूद हनुमानजी के मंदिर में पूजा की।

मंत्रालय के लिए रवाना होने से पहले अनुराट ठाकुर ने कहा, बजट लोगों की अपेक्षाओं के अनुरूप होगा। सरकार ने ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विकास’ के मंत्र पर काम किया है। इसी सोच के तहत आत्मानिहार पैकेज की घोषणा करके देश को महामारी से बचाने और अर्थव्यवस्था को तेजी से पटरी पर लाने के लिए नई दिशा दी गई है।