मैत्री सेतु भारत और बांग्लादेश के बीच मैत्रीपूर्ण संबंधों का प्रतीक

आज फेनी नदी पर बने सेतु का उदघाटन

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज भारत और बांग्लादेश के बीच फेनी नदी पर बने सेतु का उदघाटन करेंगे।
  • पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मंगलवार दोपहर इसका उदघाटन करेंगे।
  • प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार, वह कार्यक्रम के दौरान त्रिपुरा में कई बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास भी करेंगे।
  • मैत्री सेतु भारत और बांग्लादेश के बीच बढ़ते द्विपक्षीय संबंधों और मैत्रीपूर्ण संबंधों का प्रतीक है। त्रिपुरा राज्य और बांग्लादेश में भारतीय सीमा के बीच बहने वाली फेनी नदी पर पुल ‘मैत्री सेतु’ बनाया गया है।

पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उदघाटन करेंगे

  • बयान में कहा गया है कि राष्ट्रीय राजमार्ग और बुनियादी ढांचा विकास निगम लिमिटेड द्वारा 133 करोड़ रुपये की परियोजना लागत पर इसे पूरा किया गया। 1.9 किलोमीटर लंबा यह पुल भारत में सबरूम को बांग्लादेश के रामगढ़ से जोड़ता है।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज भारत और बांग्लादेश के बीच फेनी नदी पर बने सेतु का उदघाटन करेंगे। पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मंगलवार दोपहर इसका उदघाटन करेंगे।प्रधानमंत्री कार्यालय के अनुसार, वह कार्यक्रम के दौरान त्रिपुरा में कई बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास भी करेंगे।
  • मैत्री सेतु भारत और बांग्लादेश के बीच बढ़ते द्विपक्षीय संबंधों और मैत्रीपूर्ण संबंधों का प्रतीक है। त्रिपुरा राज्य और बांग्लादेश में भारतीय सीमा के बीच बहने वाली फेनी नदी पर पुल ‘मैत्री सेतु’ बनाया गया है।

बयान में कहा गया है कि राष्ट्रीय राजमार्ग और बुनियादी ढांचा विकास निगम लिमिटेड द्वारा 133 करोड़ रुपये की परियोजना लागत पर इसे पूरा किया गया। 1.9 किलोमीटर लंबा यह पुल भारत में सबरूम को बांग्लादेश के रामगढ़ से जोड़ता है।

200 करोड़ रुपये की लागत से विकसित ‘मैत्री सेतु’

  • इसके अलावा, प्रधानमंत्री पुराने मोटर स्टैंड में मल्टी लेवल कार पार्किंग और वाणिज्यिक परिसर के विकास के लिए आधारशिला रखेंगे।
  • इसे लगभग 200 करोड़ रुपये की लागत से विकसित किया जाएगा। इसके साथ ही प्रधानमंत्री लिचुबागन से हवाई अड्डे तक दो लेन से लेकर चार लेन तक की मौजूदा सड़क को चौड़ा करने के काम का भी शिलान्यास करेंगे।
  • अगरतला स्मार्ट सिटी मिशन द्वारा यह कार्य लगभग 96 करोड़ रुपये की लागत से कार्यान्वित किया जा रहा है।