पोल्ट्री प्रोडक्ट की खरीद और बिक्री पर बर्ड फ्लू की दहशत

बर्ड फ्लू का साइड इफेक्ट

  • राजधानी में चिकन की बिक्री पर से बैन भले ही हट चुका हो.
  • लेकिन बर्ड फ्लू का साइड इफेक्ट देश की सबसे बड़ी चिकन मंडी गाजीपुर में देखने को मिल रहा है.
  • मुर्गा मंडी से दिल्ली और आस-पास चिकन और अंडो का भाव तय होता है. दिल्ली में बीते गुरुवार को पोल्ट्री प्रोडक्ट की खरीद और बिक्री पर लगा बैन हटा था.
  • आज चार दिन बाद भी मंडी के बड़े कारोबारी खुदरा ग्राहकों की बाट जोह रहे हैं.

बैन हटने के बाद चिकन का भाव

  • मंडी कारोबारियों के मुताबिक, ‘चिकन की बिक्री से बैन हटने के अगले दिन शुक्रवार को चिकन का रेट 90 रुपये किलो पर खुला था.
  • दूसरे दिन शनिवार को भी तकरीबन यही भाव रहा.’ इसी मंडी के एक और व्यापारी के मुताबिक रविवार को गाजीपुर मंडी में जब चिकन के रेट खुले तो 1250 ग्राम वजनी चिकन जो 90 रुपये के भाव बिका वो गिर कर 75 रुपये प्रति किलो आ गया.
  • सोमवार के ताजा भाव की बात करें तो चिकन 65 रुपये के रेट से बिक रहा है. दिल्ली में 900 ग्राम वजनी चिकन शनिवार को 65 रुपये में था वो अगले दिन रविवार को 50 रुपये पर आ गया.
  • आगे सोमवार को चिकन के रेट में गिरावट जारी रही. मंडी खुलने के दौरान इसी वजन के चिकन का रेट 45 रुपये प्रति किलो तय हुआ था.

दिल्ली में चिकन सेल के इंतजाम

  • दिल्ली सरकारने समय रहते इस मुर्गामंडी को बंद करा दिया था. अब बैन हटने के बावजूद यहां डॉक्टरी सर्टिफिकेट मिलने के बाद ही मुर्गों को गाजीपुर की इस मंडी में एंट्री मिल रही है.
  • बर्ड फ्लू की दस्तक से पहले गाजीपुर की इस मुर्गा मंडी में दिन भर ग्राहकों का तांता लगा रहता था.
  • लेकिन अब पूरा पूरा दिन बीतने के बावजूद गिने चुने ग्राहक माल लेने आ रहे हैं. बताते चलें कि चिकन सेल से बैन हटने के बाद इसके रेट 90 रुपये किलो तक पर पहुंच गए थे.
  • इस बीच चिकन की एक वैराइटी अब सिर्फ 45 रुपये/किलो पर आ गई है. बर्ड फ्लू (Bird flu) की ऐसी दहशत फैली की अभी तक लोग चिकन और अंडा खाने से परहेज कर रहे हैं.
  • ओवर आल बात करें तो मार्केट का बुरा हाल है. यहां चिकन लॉलीपॉप और फ्रेश चिकन के रेट भी ग्राहक न आने की वजह से लगातार गिरते जा रहे हैं.