केंद्रीय कर्मचारी महंगाई भत्ता बढ़ने का बेसब्री से इंतजार

होली से पहले मिलेगा DA का तोहफा

  • केंद्रीय कर्मचारी महंगाई भत्ता बढ़ने का लंबे समय से बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं, लेकिन अब लगता है कि सभी केंद्रीय कर्मचारियों का इंतजार जल्द ही खत्म होने वाला है।
  • मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक केंद्र सरकार होली से पहले सातवें वेतनमान के तहत महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी का ऐलान कर सकती है।
  • केंद्र सरकार के ये ऐलान कर्मचारियों के लिए किसी तोहफे से कम नहीं होगा क्योंकि कोरोना महामारी के कारण महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी का ऐलान बार-बार टलते जा रहा था और कर्मचारी बेसब्री से इसका इंतजार कर रहे हैं।

सरकार की तैयारी

कर्मचारी की मौत पर 1.25 लाख परिवार को

  • इन सबके अलावा केंद्र सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को एक और राहत दी है।
  • केंद्र सरकार ने बजट में ऐलान किया है कि सरकारी कर्मचारी की मौत पर अब रिवार वालों को पेंशन के रूप में अब 1.25 लाख रुपए मिलेंगे।
  • अभी तक यह सीमा अधिकतम 45 हजार रुपए थी, जिसे अब बढ़ा दिया गया है। इसके अलावा सरकार ने बजट में मृत सरकारी कर्मचारियों व पेंशनभागी के उन बच्चों के लिए भी पेंशन को लेकर निर्देश जारी किया, जो मानसिक या शारीरिक रूप से नि:शक्त हैं।
  • यदि कुल आय पात्र पारिवारिक पेंशन मृतक पेंशनभोगी द्वारा लिए गए अंतिम वेतन से 30 प्रतिशत से कम है तो वे पूरे जीवन के लिए पारिवारिक पेंशन के लिए पात्र होंगे।

DA में 4 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है

  • अभी तक केंद्र सरकार ने महंगाई भत्ते में कितनी बढ़ोतरी होगी, इसके बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं दी है, लेकिन कुछ ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि महंगाई भत्ते में चार फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है। 
  • गौरतलब है कि अभी तक महंगाई भत्ता 17 फीसदी है और अगर इसमें चार फीसदी की बढ़ोतरी कर दी जाती है तो यह 21 फीसदी तक हो सकता है। साथ ही यह भी संभावना है कि केंद्र सरकार चार फीसदी एरियर्स देने का भी ऐलान कर सकती है।
  • ऐसे में कुल डीए बढ़कर 25 फीसदी हो जाएगा। हालांकि अभी तक सिर्फ कयास ही लगाए जा रहे हैं और जल्दी इस पर फैसला लेकर केंद्र सरकार कर्मचारियों को बड़ी राहत दे सकती है।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार हर 6 महीने में महंगाई भत्ता Revise करती है और इसका कैलकुलेशन Basic Pay को आधार मानकर किया जाता है। 7वें वेतन आयोग की सिफारिश के आधार पर कर्मचारियों के महंगाई भत्ते की गणना होती है।