प्रधानमंत्री ने नई दिल्ली में नए संसद भवन के लिए भूमि पूजन समारोह के बाद नए शिलान्यास

नए संसद भवन के लिए भूमि पूजन समारोह

नया संसद परिसर भूमिपूजन
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को नई दिल्ली में नए संसद भवन के लिए भूमि पूजन समारोह के बाद नए शिलान्यास किया।
  • इसके बाद केंद्रीय मंत्रियों और अन्य गणमान्य लोगों की उपस्थिति में नए ढांचे के लिए पट्टिका का अनावरण किया।
  • इस कार्यक्रम में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी, शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी और राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश नारायण सिंह सहित लगभग 200 मेहमान शामिल हुए।
  • पूर्व प्रधानमंत्री, पूर्व लोकसभा स्पीकर और सभी राजनीतिक दलों के नेता भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए। विभिन्न धर्मों के बारह धार्मिक गुरुओं ने भी प्रार्थना समारोह में भाग लिया। नई इमारत आत्‍मनिर्भर भारत की दृष्टि का एक हिस्सा है। 75वें वर्ष में न्यू इंडिया की जरूरतों और आकांक्षाओं को ध्‍यान में रखते हुए इसको 2022 में पूरा किया जाएगा।
  • स्पीकर ओम बिरला ने कहा है कि भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर सरकार नए संसद भवन में दोनों सदनों का सत्र शुरू करेगी। 75वां स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 2021 को पड़ेगा।
  • 12 विभिन्न धर्मों के धार्मिक गुरुओं ने शिलान्यास समारोह के बाद ‘सर्व धर्म प्रचार’ किया।
  • टाटा समूह के अध्यक्ष एमेरिटस रतन टाटा भी इस कार्यक्रम में उपस्थित थे।
  • पीएम मोदी द्वारा शिलान्यास करने के बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला और राज्यसभा के उपाध्यक्ष हरिवंश नारायण सिंह शामिल हुए।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए संसद भवन परिसर की आधारशिला रखी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया नई संसद भवन परिसर के लिए भूमिपूजन

आधुनिक सुविधाओं से युक्त त्रिकोणीय नई संसद भवन में लोकसभा और राज्यसभा दोनों में सांसदों के बैठने की जगह होगी। इस पर लगभग 971 करोड़ रुपये खर्च होंगे और निर्माण अगस्त 2021 तक पूरा होने वाला है।

लोकसभा सदस्यों के लिए लगभग 888 सीटें होंगी और नए भवन में राज्यसभा सदस्यों के लिए 326 से अधिक सीटें होंगी। लोकसभा हॉल 1,224 सदस्यों को एक साथ समायोजित करने में सक्षम होगा।

यह पुराने संसद भवन से 17,000 वर्ग मीटर बड़ा होगा, और 64,500 वर्ग मीटर के क्षेत्र में बनाया जाएगा।

लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि नया भवन राष्ट्र की विविधता को दर्शाने वाला “भारत का मंदिर” होगा।