उत्तराखंड में बाढ़ से आई तबाही में 74 शव बरामद

  • NDMA ने गठित की संयुक्त अध्ययन टीम गठित
  • स्वचालित मौसम केंद्र स्थापित किए गए

ऋषिगंगा और धौलीगंगा नदी में आकस्मिक बाढ़

मंत्रालय ने कहा कि NDMA ने ऋषिगंगा और धौलीगंगा नदी में आकस्मिक बाढ़ के कारणों को समझने और भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए और सुझाव देने के लिए केंद्र और राज्यों के विभिन्न संस्थानों और संगठनों के विशेषज्ञों की एक संयुक्त अध्ययन टीम गठित की है.

उत्तराखंड में बाढ़ से आई तबाही पर गृह मंत्रालय ने लोक सभा में बयान दिया है. लोक सभा में एक सवाल पूछा गया था जिसके जवाब में गृह मंत्रालय ने कहा कि उत्तराखंड से प्राप्त सूचना के अनुसार अब तक 74 शवों को बरामद किया गया और 130 व्यक्ति अभी भी लापता बताए गए हैं.

  • उत्तराखंड सरकार ने भी हिमनदी से बनी प्राकृतिक झीलों और इसके प्रभावों की समीक्षा करने के लिए भी एक समिति गठित की है.
  • राज्य सरकार ने इस घटना के कारण अपनी जान गंवाने वालों के निकटतम संबंधियों के लिए 4-4 लाख रुपये की राशि की घोषणा की है.
  • उत्तराखंड ने सूचित किया है कि अति संवेदनशील क्षेत्रों की सुरक्षा करने के लिए विभिन्न स्थानों पर पूर्व चेतावनी प्रणालियां और स्वचालित मौसम केंद्र स्थापित किए गए हैं.