आज PM मोदी ने वाराणसी में कोविड टीकाकरण अभियान के वैक्सीन लगाने वालों के साथ संवाद किया

शुभ संकल्पों से हुई 2021 की शुरुआत :

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीकिसी भी वैक्सीन को बनाने के पीछे हमारे वैज्ञानिकों की कड़ी मेहनत होती है, इसमें वैज्ञानिक प्रक्रिया होती है।
  • वैक्सीन के बारे में निर्णय करना राजनीतिक नहीं होता, हमने तय किया था कि जैसा वैज्ञानिक कहेंगे, वैसे ही हम करेंगे।

वाराणसी के वैक्‍सीन वीरों से संवाद से पहले PM मोदी ने शुरुआत के अपने संबोधन में कहा कि, 2021 की शुरुआत बहुत ही शुभ संकल्पों से हुई है। काशी के बारे में कहते हैं कि यहां शुभता सिद्धि में बदल जाती है। इसी सिद्धि का परिणाम है कि आज विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान हमारे देश में चल रहा है। दो मेड इन इंडिया वैक्सीन भारत में तैयार हुई हैं, इस मामले में भारत ना सिर्फ पूरी तरह से आत्मनिर्भर है बल्कि कई देशों की मदद भी कर रहा है।”

आज सातवां दिन टीकाकरण अभियान का

  • महामारी कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए देश में 16 जनवरी से ‘टीकाकरण अभियान’ शुरू हो गया है, जिसका आज सातवां दिन है और आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वाराणसी में कोविड टीकाकरण अभियान के लाभार्थियों और वैक्सीन लगाने वालों के साथ संवाद किया।
  • PM मोदी ने बताया- वाराणसी में प्रथम चरण में लगभग 20,000 से ज़्यादा स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन लगाई जाएगी और इसके लिए 15 टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं।

अस्‍पताल की मैट्रन पुष्‍पा ने PM को कहा धन्‍यवाद-

तो वहीं, वाराणसी के जिला महिला अस्‍पताल की मैट्रन पुष्‍पा देवी को यहां पर सबसे पहले वैक्‍सीन दी गई थी।

  • इस दौरान पुष्‍पा ने PM को धन्‍यवाद देते हुए कहा कि, ”पहले चरण में सबसे पहले मुझे वैक्‍सीन लगाई गई। मैं अपने आपको बेहद सौभाग्‍यशाली मान रही हूं। मैं सुरक्षित महसूस कर रही हूं। मुझे कोई साइड इफेक्‍ट नहीं है। जैसे अन्‍य इंजेक्‍शन लगते हैं, वैसे ही यह इंजेक्‍शन भी लगा।”
  • इसके बाद PM मोदी ने कहा- यह आप जैसे लाखों-करोड़ों कोरोना वॉरियर्स और 130 करोड़ भारतीयों की सफलता है। इसके बाद उन्‍होंने साइड इफेक्‍ट्स को लेकर पूछा कि क्‍या वे पूरे विश्‍वास से ऐसा कह सकती हैं? तब पुष्‍पा ने कहा कि, किसी के मन में यह डर नहीं रहना चाहिए कि वैक्‍सीन से कुछ हो जाएगा।